घर-परिवार

शनिवार को एेसे करें शनिदेव की पूजा, बनेंगे समस्त बिगड़े काम

Saturday, March 10, 2018 12:45 PM

शनिवार के दिन भगवान शनि को याद किया जाता है। इस दिन शनिदेन की विशेष पूजा की जाती है। इन्हें प्रसन्न करने के लिए लोग व्रत भी रखते हैं। लेकिन शनिदेव की प्रतिमा या तस्‍वीर घर में रखना वर्जित है परंतु इस दिन हनुमान जी की तस्‍वीर के सामने शनिदेव की पूजा की जा सकती है। तो आईए जानें इससे संबंधित कुछ बातें-

 
कई बार आपके काम बनते बनते बिगड़ जाते हैं, या आप लगातार बीमार हैं, किसी परेशानी में हों या परिजनों या मित्रों से मनमुटाव हो जाए तो संभव है कि आपकी कुंडली में शनि की स्थिति सही ना हो। आप पर शनि की महादशा, साढ़ेसाती, ढैय्या आदि का प्रकोप हो सकता है। ऐसे में उसे शांत करने के उपाय करने आवश्‍यक हो जाते है। इसके लिए आप शनिदेव की पूजा घर पर भी कर सकते हैं। बस कुछ विशेष बातों का ध्‍यान रखें। 
 
शनिदेव को अपनी पत्नी के द्वारा यह श्राप प्राप्त था कि वे जिस किसी पर भी अपनी सीधी नजर डालेंगे, उसका अनिष्ट हो जाएगा। इसलिए ही वास्तु शास्त्र के अनुसार घर पर शनिदेव की मूर्ति रखना वर्जित है। इसलिए याद रखें कि उनको मन में ही स्‍मरण करके उनकी पूजा करें। शनिवार को हनुमान जी की भी पूजा का विधान है तो आप उनके समक्ष पूजा करते समय शनिदेव को याद कर सकते हैं। इससे भी शनि अति प्रसन्‍न होते हैं। 
 
घर पर शनिदेव की पूजा सामान्य रूप से ही करें और उसके बाद किसी भी निकट के मंदिर जा कर शनिदेव को नीले या काले रंग के वस्‍त्र अर्पित करें। इसके अतिरिक्‍त शनिवार को व्रत का संकल्प लें और नहा-धोकर काले वस्त्र धारण कर पूजा करें। इस दिन सरसों या तिल के तेल से दिया जला शनिदेव को अर्पित करें। साथ ही शनिदेव को तिल, काली उदड़ या कोई भी काली वस्तु भेंट में चढ़ाएं।