About Us

अनंत श्री विभूषित श्री श्री 1008 श्री शुकदेवदास महाराज जी अपने शरीर को छोड़ कर निज धाम सिधार गये। श्री महाराज जी आज भी प्रेमियों को उस स्थान से अपना आश्रीवाद प्रदान कर रहे हैं और उनकी कृपा सब पर बरस रही है। महाराज जी की ज्योति यों ही सदा चमकती रहे यही मेरी सच्ची श्रद्धांजलि है।

मेरा सौभग्य है कि मै महराज जी के परिवार की सदस्य हूं । nimbarkpuram.org वेबसाइट मैने महाराज जी के १०० वे साल गिरह पर भेंट दी थी। जिसे देख कर महाराज जी बहुत खुश हो गये थे। उनके शरीर छोड़्ने के बाद, मैने एक सपना देखा और बिना किसी मदद के और आगे-पीछा सोचे हुए मैं इस सपने को सच करने में लग गयी हूँ।  इस वेबसाइट का उद्देश्य श्री 108 श्री शुकदेवदास महाराज जी की यादो को संग्रहीत करना  और  जन साधारण तक अपना संदेश पहुँचाना है । ताकि एक धर्म का व्यक्ति दूसरे धर्म के बारे में जानकारी ले सके । इसमें किसी भी प्रकार की आलोचना व कटु शब्दों का प्रयोग नहीं किया गया ।

हम किसी भी सुधार के विचारों या सुझावों को सुनने के लिए खुश हैं, जो आप चाहते हैं कि हम nimbarkpuram.org को बेहतर बनाने में सहायता कर सकें। यदि आपके पास  महाराज जी का कोई फोटो / वीडियो है तो आप हमे इस पते (reenasinghrs2011@gmail.com) पर भेजें अगर वह उचित होगा तो मैं अपने nimbarkpuram.org पर उपलब्ध कराएंगे । हमारी अज्ञानतावश यदि कोई त्रुटि हो गयी हो तो कृपा कर हमें क्षमा करना और उस त्रुटि की ओर हमारा ध्यान आकर्षित करें।


राधे राधे!
रीना सिंह



9810364142
reenasinghrs2011@gmail.com